Old Pension Scheme: राज्य सरकार ने कर्मचारियों को लाभ पहुंचाने के लिए पुरानी पेंशन योजना शुरू की

Old Pension Scheme: राज्य सरकार की नई पुरानी पेंशन योजना के बारे में पढ़ें जिसका उद्देश्य झारखंड में सरकारी कर्मचारियों के आर्थिक दबाव को कम करना है। इस विशेष पेंशन फंड के विवरण और वित्तीय प्रावधानों की खोज करें।

राज्य सरकार ने कर्मचारियों को लाभ पहुंचाने के लिए पुरानी पेंशन योजना शुरू की

झारखंड की राज्य सरकार ने हाल ही में अपने कर्मचारियों को पर्याप्त लाभ प्रदान करने के लिए एक पुरानी पेंशन योजना शुरू की है। मौजूदा आर्थिक दबाव को दूर करने के प्रयास में, सरकार ने एक समर्पित पेंशन कोष स्थापित करने के लिए सक्रिय कदम उठाए हैं। 10,000 करोड़ रुपये की कुल जमा राशि वाला यह विशेष कोष भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा प्रशासित किया जाएगा। अपनी वार्षिक रणनीति के तहत, सरकार ने 2023 में इस कोष में 700 करोड़ रुपये आवंटित करने की योजना बनाई है।

वित्तीय प्रावधान और बजट आवंटन

इस पहल की सफलता सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकार ने एक अलग बजट निर्धारित किया है। कर्मचारी जो नई पेंशन योजना में नामांकन करते हैं और बाद में सेवानिवृत्त हो जाते हैं, वे इस विशेष पेंशन फंड से अपनी पेंशन प्राप्त करेंगे। अंशदायी पेंशन योजना के समान, सरकार इस समर्पित खाते में धनराशि जमा करेगी। वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव ने आश्वासन दिया कि पुरानी पेंशन योजना के शुरू होने से सरकारी खजाने पर कोई वित्तीय बोझ नहीं पड़ेगा। एक विशेष पेंशन कोष बनाया जाएगा और इस कोष में सालाना 700 करोड़ रुपये जमा किए जाएंगे। इसके अतिरिक्त, व्यापक दिशानिर्देशों का निर्माण पहले से ही चल रहा है।

पुरानी पेंशन योजना का विस्तार (Old Pension Scheme)

झारखंड में पहली नवंबर 2022 से पहले पुरानी पेंशन योजना लागू की गई थी। शुरुआत में दिसंबर 2004 के बाद नियुक्त कर्मचारी ही इस योजना के पात्र थे। हालांकि कर्मचारियों की मांगों पर विचार करते हुए सरकार ने पुरानी पेंशन योजना का लाभ सभी को दिया। वर्तमान में, पुरानी पेंशन योजना को बनाए रखने के लिए राजकोष लगभग 8,000 करोड़ रुपये सालाना खर्च करता है। वर्तमान में, लगभग 70,000 स्थायी राज्य कर्मचारी पुरानी पेंशन योजना के अंतर्गत आते हैं, और अतिरिक्त 1.25 लाख कर्मचारियों को नई पेंशन योजना से पुरानी योजना में स्थानांतरित किया गया है। नतीजतन, वार्षिक पेंशन का बोझ 30 करोड़ रुपये बढ़ जाएगा, कुल मिलाकर 175 करोड़ रुपये सालाना, जिसमें पेंशन और अन्य भत्ते शामिल हैं।

भविष्य के निहितार्थ और राष्ट्रव्यापी हित

झारखंड में लागू पुरानी पेंशन योजना ने अन्य राज्यों का खासा ध्यान खींचा है। पंजाब और हिमाचल सहित कई राज्यों ने योजना के कामकाज और व्यवस्थाओं का अध्ययन करने के लिए अपने वित्त सचिवों को भेजा है। इसके अलावा, महाराष्ट्र के वित्त सचिव अंतर्दृष्टि प्राप्त करने और प्रक्रिया का विस्तार से पता लगाने के लिए अगले सप्ताह रांची का दौरा करने वाले हैं।

अंत में, झारखंड राज्य सरकार द्वारा पुरानी पेंशन योजना की शुरुआत अपने कर्मचारियों को समर्थन और सम्मान देने की दिशा में एक सकारात्मक कदम का प्रतीक है। एक विशेष पेंशन कोष की स्थापना से सेवानिवृत्त कर्मियों की वित्तीय स्थिरता सुनिश्चित होती है। जैसा कि अन्य राज्य इस पहल पर ध्यान देते हैं, यह संभावित विस्तार और देश भर में इसी तरह की योजनाओं को अपनाने का मार्ग प्रशस्त करता है।

Read More:

FireStoneCenter.org एक वेबसाइट है जो शेयर बाजार से जुड़ी जानकारी प्रदान करती है। इस वेबसाइट का उद्देश्य शेयर बाजार से संबंधित नवीनतम समाचार और जानकारी साझा करना है। हालांकि, इस वेबसाइट द्वारा प्रदान की गई सभी जानकारी केवल सूचना के उद्देश्यों के लिए है और निवेश सलाह के रूप में नहीं दी जाती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top