Join WhatsApp Group!

RBI Alert: 2000 के नोट बंद होने के बाद 500 के नोट पर RBI ने लिया बड़ा फैसला

RBI Alert

RBI Alert : 2000 रुपये के नोटों के विमुद्रीकरण के बाद एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम में, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने 500 रुपये के नोट के भविष्य के संबंध में एक महत्वपूर्ण घोषणा की है। 2000 रुपये के नोट को धीरे-धीरे बंद करने के साथ, 500 रुपये का नोट अब प्रचलन में सबसे बड़ा मूल्यवर्ग बन जाएगा। आरबीआई के इस फैसले ने नकली नोटों में संभावित वृद्धि के बारे में चिंता जताई है और 500 रुपये के नोट के संबंध में दो प्रमुख अपडेट किए हैं। 500 रुपये के नोट और उसके निहितार्थ के बारे में नवीनतम समाचार जानने के लिए पढ़ें।

बेहतर सर्कुलेशन के लिए बढ़ी हुई प्रिंटिंग:

WhatsApp Group Join Now
Telegram Channel Join Now

2000 रुपये के नोटों पर प्रतिबंध लगाने से 500 रुपये के नोटों की मांग में अनुमानित वृद्धि हुई है। इसी मांग को पूरा करने के लिए आरबीआई ने 500 रुपए के नोटों की छपाई बढ़ाने का फैसला किया है। इसका मतलब यह है कि इन नोटों की उपलब्धता बढ़ाने और लोगों को आसानी से प्राप्त करने के लिए सुनिश्चित करने के लिए इन नोटों की एक बड़ी संख्या का उत्पादन किया जाएगा। इस कदम का उद्देश्य बढ़ती मांग को पूरा करना और वित्तीय प्रणाली में स्थिरता बनाए रखना है। हालाँकि, यह कदम चलन में नकली नोटों के बढ़ने की संभावना के बारे में भी चिंता पैदा करता है।

जाली नोटों को रोकने के लिए नए सुरक्षा उपाय (RBI Alert)

500 रुपये के नोटों के बढ़ते प्रचलन से जुड़े संभावित जोखिमों को स्वीकार करते हुए, आरबीआई ने सुरक्षा उपायों को बढ़ाने की आवश्यकता पर बल दिया है। जाली मुद्रा के मुद्दे से निपटने के लिए, आरबीआई नए सुरक्षा फीचर पेश करेगा जो नकली नोटों को असली नोटों से अलग करने में मदद करेगा। इन उपायों में तकनीकी और दृश्य संकेत दोनों शामिल होंगे, जो नकली नोटों की पहचान करने के लिए प्रभावी साधन उपलब्ध कराएंगे। उन्नत सुरक्षा तत्वों को शामिल करके, RBI का उद्देश्य मुद्रा की अखंडता की रक्षा करना और मौद्रिक प्रणाली में जनता का विश्वास सुनिश्चित करना है।

देवास बैंक नोट प्रेस में बढ़ी छपाई:

देवास बैंक नोट प्रेस (बीएनपी) ने 500 रुपये के नोटों की बढ़ती मांग को देखते हुए अपने कर्मचारियों को छपाई प्रक्रिया तेज करने के निर्देश जारी किए हैं। नए निर्देश के तहत 500 रुपए के नोटों की रोजाना छपाई में काफी इजाफा होगा। बढ़ी हुई आवश्यकता को पूरा करने के लिए बीएनपी प्रतिदिन 22 मिलियन नोट (2.20 करोड़ नोट) छापेगा। इस बढ़े हुए कार्यभार को समायोजित करने के लिए, कर्मचारी प्रत्येक 11 घंटे की दो शिफ्टों में काम करेंगे, जिसके परिणामस्वरूप दैनिक उत्पादन चक्र 22 घंटे का होगा। यह समायोजन पिछले 9-घंटे की शिफ्ट पैटर्न का स्थान लेता है। इस संशोधित प्रणाली का प्राथमिक उद्देश्य 500 रुपये के नोटों की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करना है, जिससे मौजूदा वित्तीय संकट को दूर किया जा सके।

प्रिंटिंग सर्ज का महत्व:

वर्तमान में, देवास नोट प्रेस दैनिक आधार पर 18-20 मिलियन (1.8-2 करोड़) 20, 50, 100, 200 और 500 रुपये के नोटों की छपाई के लिए जिम्मेदार है। हालांकि, हाल ही में 2000 रुपये के नोटों को बंद करने के फैसले के साथ, 500 रुपये के नोटों की छपाई में काफी वृद्धि देखी गई है। ताजा आंकड़ों के मुताबिक, बीते रविवार से अब तक 500 रुपए के 2.2 करोड़ (2.2 करोड़) नोट छापे जा चुके हैं। छपाई की प्राथमिकताओं में यह बदलाव 500 रुपये के नोटों की उपलब्धता को बढ़ाने पर सरकार के वर्तमान जोर को उजागर करता है।

होम पेजयही क्लिक करे

निष्कर्ष:

2000 रुपये के नोटों को बंद करने और बाद में 500 रुपये के नोटों की छपाई में वृद्धि के साथ, आरबीआई का लक्ष्य विकसित वित्तीय परिदृश्य को संबोधित करना है। 500 रुपये के नोटों के प्रचलन का विस्तार करके, केंद्रीय बैंक का लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि जनता के पास मुद्रा की पर्याप्त आपूर्ति हो। इसके साथ ही, नए सुरक्षा उपायों के कार्यान्वयन से नकली मुद्रा से रक्षा होगी, जिससे मौद्रिक प्रणाली में विश्वास बढ़ेगा। ये अद्यतन मुद्रा गतिशीलता के प्रबंधन और एक मजबूत और सुरक्षित वित्तीय वातावरण की दिशा में काम करने में आरबीआई के सक्रिय दृष्टिकोण को दर्शाते हैं।

अन्य पढ़ें –

WhatsApp Group Join Now
Telegram Channel Join Now

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top